Category: कविता/शायरी

कुर्सी बेचारी

एक छोटी सी कुर्सी सी की कहानी लकड़ी , प्लास्टिक से बनी कुर्सी बेचारी उस की हैं बड़ी व्यथा भारी हैं नाजुक सी कुर्सी बेचारी पर कितने नेता और धन्नासेठ…

यादें

…यादों की उम्र शरीर से लंबी होती है, क्योंकि , शरीर तो नश्वर होता है , नष्ट हो जाता है ! पर यादें , यादें हमेशा रहती हैं … क्योंकि…

डर

हमको किसी से डर नहीं, चुपके चुपके रह धीरे धीरे बोलूँ ! सुनना है जिन्हें सुन ले यहाँ कोई बात की गम नहीं! आये हैं मिट्टी से निर्मित बदन में…

फर्ज़ और लड़के लड़कियों में अंतर

माता-पिता की ज़मीन जायदाद का हिस्सा मिलने पर खुश होने वाली लड़कियाँ, माता-पिता का खर्च उठाने ,उनकी सेवा करने,उन्हें अपने घर रखने से कतराती क्यों है ?अधिकार चाहिए तो फ़र्ज़…

यादें

यादें होती हैं, धरोहर! जैसे -मां सम्हाल कर रखती है, हमारे बचपन के कपड़े और खिलौने। जैसे -सूरज आश देकर जाता है कल सुबह आने की, जैसे -शशि सोलह कलाओं…

भराव

मेरी आंखें भरी है, हर उस चीज के प्रति, जो सिर्फ देती है दिखाई, जिनमें नहीं होती भावनाओं का एहसासों की गहराई ! मेरा मन भरा है, हर उस चीज…

You cannot copy content of this page